डिजिटल अटेंडेंस के विरोध में शिक्षकों ने काली पट्टी बांधकर जताया विरोध

प्रशासन के दबाव के चलते सिम लेने पहुंचे खंड शिक्षा कार्यालय
नवाबगंज, समृद्धि न्यूज। डिजिटल अटेंडेंस के विरोध में परिषदीय विद्यालयों के शिक्षकों ने काली पट्टी बांधकर विरोध जताया, लेकिन अधिकारियों के दबाव के चलते सभी शिक्षक सरकारी सिम लेने खंड शिक्षा कार्यालय पहुंचे।
जानकारी के अनुसार नवाबगंज विकास खंड क्षेत्र के समस्त परिषदीय विद्यालयों के शिक्षकों ने सरकार द्वारा चलाई गई डिजिटल अटेंडेंस नीति का विरोध करते हुए काली पट्टी बांधकर अपने-अपने विद्यालयों में सरकार के आदेशों का बहिष्कार किया। शिक्षक पूरे दिन काली पट्टी बांधकर बहिष्कार करते रहे। वहीं परिषदीय विद्यालय के समस्त शिक्षकों के मुताबिक पूरे प्रदेश में विरोध जताया गया। जहां से पूरे प्रदेश से नौ लोगों ने ऑनलाइन अटेंडेंस भेज दी। जिस पर छह लोगों ने शिक्षकों के गुटों से माफीनामा भी मांगा। विरोध प्रदर्शन की सूचना जब उच्च अधिकारियों में हुई, तो उच्च अधिकारियों ने शिक्षकों पर दबाव बनाना शुरू कर दिया। जब इसके बारे में खंड शिक्षा अधिकारी अमर सिंह राणा से जानकारी की गई तो उन्होंने कहा की कोई शिक्षक विरोध नहीं करेगा और सबको सरकारी सिम दिया जा रहा है। सभी शिक्षक सिम लेने के लिए खंड शिक्षा कार्यालय पहुंचे। शिक्षकों के बताए अनुसार जानकारी मिली कि उनका विरोध जारी रहेगा, लेकिन उच्च अधिकारियों के दबाव के चलते सिम कार्ड ले लिए गए हैं, लेकिन कोई ऑनलाइन अटेंडेंस कोई भी शिक्षक नहीं भेजेगा। क्षेत्र के संविलियन विद्यालय कक्योली में फिर शिक्षकों ने अपना विरोध जताया। वहीं प्राथमिक विद्यालय कस्बा नवाबगंज में भी शिक्षकों ने अपने शिक्षक गुट के नेताओं के आदेशानुसार विरोध जताया। इस मौके पर ग्राम कक्योली के प्रधानाध्यापक ओमकार सिंह, इंचार्ज प्रधानाध्यापक के साथ सहायक अध्यापक इरमान शेर, ममता वर्मा, नूरुद्दीन, कृष्ण पाल सक्सेना, पुष्पेंद्र सिंह, सुनील कुमार, मोहम्मद खालिद खान, यादवेंद्र सिंह, उदय प्रताप, सरिता, रीना देवी तथा विजय प्रताप सिंह, अनुदेशक श्याम कुमार, निर्मल, अनुदेशक कंचन सक्सेना, अनुदेशक रणवीर सिंह, शिक्षा मित्र अभिनंदन शर्मा तथा प्राथमिक विद्यालय कस्बा नवाबगंज से संजीव रंजन प्रधानाध्यापक, प्रशांत कटियार, प्रज्ञानंद शाक्य, वसीम अख्तर, प्राथमिक विद्यालय नैरोसा शालिग्राम गंगवार अपने समस्त शिक्षकों के साथ विरोध प्रदर्शन करते रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *